Breaking News
जल्द ही बनेगा जेवर विधानसभा में बड़ा अस्पताल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगें शिलान्यास - प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह !  |  ओलंपियन पहलवान सुशील कुमार खूनी दंगल में चित्त, हत्या के आरोप में फरार  |  ICMR की नई गाइडलाइंस:- स्वस्थ लोगों से आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट नहीं मांगे राज्य  |  बैंक से इतने रुपये कैश निकालने पर देना होगा टैक्स  |  LPG गैस सिलेंडर 1 मई से हुआ सस्ता  |  मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, Remdesivir की 4.5 लाख खुराक का होगा आयात, लगेगी अब कोरोना पर लगाम  |  हमारा परिवार पूर्वी दिल्ली इकाई द्वारा वार्षिकोत्सव बड़ी ही धूमधाम से सम्पन्न हुआ  |  एम०एस०पी० निरंतर बढती रहेगी, मंडियां होंगी अधिक मजबूत और किसानों की आय बढ़ेगी भ्रम भी होगा दूर - राजकुमार चाहर (सांसद)-राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा किसान मोर्चा  |  लव जिहाद और धर्मांतरण पर सख्त हुई योगी सरकार ने नए अध्यादेश को दी मंजूरी, अब नाम छिपाकर शादी की तो होगी 10 साल कैद !   |  चौधरी चरण सिंह की विरासत को डुबोता परिवार !  |  
कारोबार
By   V.K Sharma 04/05/2021 :19:33
बैंक से इतने रुपये कैश निकालने पर देना होगा टैक्स
 
जो लोग नियमित ITR फाइल करते हैं वो बिना कोई टीडीएस दिए बैंक,पोस्ट ऑफिस और को-ऑपरेटिव बैंक के खाते से एक वित्त वर्ष में 1 करोड़ से ज्यादा का कैश ट्रांजेक्शन कर सकते है

नई दिल्ली(न्यूज़ ग्राउंड)बैंक से बड़ी नगदी राशि निकालने वाले लोगों के लिए बड़ी खबर है. सरकार ने फाइनेंस बिल 2019 के जरिए देश में एक नया नियम लेकर आई है. इस नियम के तहत अगर कोई भी व्यक्ति एक ही बैंक या को-ऑपरेटिव बैंक और पोस्ट ऑफिस के सभी अकाउंट्स को मिलाकर एक वित्त वर्ष के अंदर एक करोड़ रुपये से अधिक की निकासी कैश के रूप में करता है तो उसे टैक्स देने होगा. यह टैक्स 2 प्रतिशत टीडीएस के रूप में वसूला जाएगा. हालांकि, यह एक करोड़ रुपये की थ्रेसहोल्ड लिमिट इनकम टैक्स रिटर्न भरने वालों के लिए है.

टर्नओवर की ऐसी सीमा (threshold) जिसके नीचे माल और सेवाएं कर से मुक्त रखी जा सकतीं हैं. इसे थ्रेसहोल्ड लिमिट कहा जाता है. टर्नओवर पर कर लगाया जाता है. मगर टर्नओवर की थ्रेशोल्ड लिमिट से नीचे टर्नओवर रखने वाले लोग इसके दायरे के बाहर होते हैं.
 ITR फाइल नहीं करने वालों पर टीडीएस

जिन लोगों ने लगातार पिछले तीन वर्षों से ITR फाइल नहीं किया है. सरकार ने उनके लिए 2020 के बजट में थ्रेसहोल्ड लिमिट को घटाकर 20 लाख रुपये कर दिया था. इसका मतलब यह है कि अगर जिस व्यक्ति ने ITR फाइल नहीं की है, वो अगर किसी भी बैंक या को-ऑपरेटिव बैंक और पोस्ट ऑफिस के सिभी अकाउंट को मिलाकर 1 फाइनेंसियल इयर में 20 लाख रुपये से अधिक की निकासी कैश में करता है तो उसे 2 फीसदी टीडीएस देना होगा.
ITR फाइल करने वाले को छूट

जो लोग नियमित ITR फाइल करते हैं वो बिना कोई टीडीएस दिए बैंक,पोस्ट ऑफिस और को-ऑपरेटिव बैंक के खाते से एक वित्त वर्ष में 1 करोड़ से ज्यादा का कैश ट्रांजेक्शन कर सकते हैं. उन्हें 2 फीसदी टीडीएस नहीं देना होगा. मान लीजिए किसी व्यक्ति के तीन अलग-अलग बैंकों में अकाउंट है, तो बिना किसी टीडीएस के हर बैंक से एक-एक करोड़ रुपये  यानी तीन करोड़ नकद निकाल सकता है.

एक वित्त वर्ष में एक करोड़ रुपये से अधिक के कैश निकासी पर 194N के तहत 2 फीसदी टीडीएस का प्रावधान है. एक करोड़ रुपये से अधिक की निकासी पर ये टीडीएस सिर्फ कैश निकासी पर कटते हैं. अगर  किसी ने चेक या ऑनलाइन तरीके से ट्रांजेक्शन किए हैं तो उसपर टीडीएस नहीं कटता है.
इन लोगों को मिलती है छूट

हालांकि, सेक्शन 194N के तहत कुछ वर्ग को 1 करोड़ से अधिक कैश निकासी पर टीडीएस से छूट मिलता है. इनमें सरकारी संस्था, बैंक, को-ऑपरेटिव सोसायटी, पोस्ट ऑफिस, बैंकिंग कंपनी सरकार द्वारा नोटिफाई किए गए व्यक्ति आते है



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv