Breaking News
ओलंपियन पहलवान सुशील कुमार खूनी दंगल में चित्त, हत्या के आरोप में फरार  |  ICMR की नई गाइडलाइंस:- स्वस्थ लोगों से आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट नहीं मांगे राज्य  |  बैंक से इतने रुपये कैश निकालने पर देना होगा टैक्स  |  LPG गैस सिलेंडर 1 मई से हुआ सस्ता  |  मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, Remdesivir की 4.5 लाख खुराक का होगा आयात, लगेगी अब कोरोना पर लगाम  |  हमारा परिवार पूर्वी दिल्ली इकाई द्वारा वार्षिकोत्सव बड़ी ही धूमधाम से सम्पन्न हुआ  |  एम०एस०पी० निरंतर बढती रहेगी, मंडियां होंगी अधिक मजबूत और किसानों की आय बढ़ेगी भ्रम भी होगा दूर - राजकुमार चाहर (सांसद)-राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा किसान मोर्चा  |  लव जिहाद और धर्मांतरण पर सख्त हुई योगी सरकार ने नए अध्यादेश को दी मंजूरी, अब नाम छिपाकर शादी की तो होगी 10 साल कैद !   |  चौधरी चरण सिंह की विरासत को डुबोता परिवार !  |  दलितों पर राजनीति करती आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की सरकार - आदेश गुप्ता  |  
राष्ट्रीय
By   V.K Sharma 14/03/2019 :10:30
लोकसभा आम चुनाव 2019 मतगणना प्रक्रिया को लेकर कम्ह्रश्वयूटर ऑपेरटर को प्रशिक्षण
 
करनाल लोकसभा आम चुनाव 2019 की तैयारियों के चलते बुधवार को लघु सचिवालय स्थित सभागार में मतगणना प्रक्रिया को लेकर कम्ह्रश्वयूटर ऑपेरटर को प्रशिक्षण दिया गया। इस कार्यक्रम में उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं नगराधीश नवीन आहुजा के अतिरिक्त करनाल जिला की सभी 5 विधानसभा क्षेत्र के सहायक रिर्टनिंग अधिकारियों के साथ-साथ संबंधित ऑपरेटर शामिल हुए।

प्रशिक्षण की प्रक्रिया जिला सूचना विज्ञान केन्द्र के एडीआईओ परविन्द्र सिंह ने, भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विकसित किए गए सुविधा सॉफ्टवेयर के जरिए सम्पन्न करवाई। प्रक्रिया में ट्रायल रन के तहत सहायक रिर्टनिंग अधिकारियों द्वारा डमी तौर पर राऊंड वाईज वोटो की गिनती डाली गई, नोमिनेशन भी डाले गए। इसके बाद उसी राऊंड का डाटा एकत्र होकर फाइनल किया गया। ट्रेनिंग के दौरान उपस्थित ऑपरेटर को बताया कि यह कार्य बड़ी सुझबुझ और एकाग्रता के साथ किया जाना है। उन्होंने बातया कि हालांकि वोटो की गिनती का डाटा ऑपरेटर के पास जाने से पहले 2-3 बार चेक किया जाता है। काऊंटिंग सुपरवाईजर भी उसे चेक कर अपनी तसल्ली करते हैं ताकि काऊंटिंग में किसी तरह की गलती की गुजांइश ही ना रहे। क्योकि एक बार डाटा फाइनल होने के बाद सॉफ्टवेयर में उसकी एडिटिंग नहीं हो सकती और ना ही उसमे किसी तरह का परिवर्तन किया जा सकता है, बल्कि पारदर्शिता के लिए सम्बंधित राऊंड का रिजल्ट स्क्रीन पर डिस्पले कर दिया जाता है और वह चुनाव आयोग की साईट पर भी अपलोड हो जाता है। ट्रेनिंग के दौरान उपस्थित ऑपरेटरों द्वारा पुछे गए सवालों का समाधान भी किया गया और उनसे बारीबारी ट्रायल रन करवाकर ट्रेनिंग दी गई। इस कार्यक्रम में निर्वाचन तहसीलदार सुनील भोरिया भी उपस्थित थे।



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv