Breaking News
लव जिहाद और धर्मांतरण पर सख्त हुई योगी सरकार ने नए अध्यादेश को दी मंजूरी, अब नाम छिपाकर शादी की तो होगी 10 साल कैद !   |  चौधरी चरण सिंह की विरासत को डुबोता परिवार !  |  दलितों पर राजनीति करती आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की सरकार - आदेश गुप्ता  |  भाजपा दिल्ली प्रदेश के नवनियुक्त पदाधिकारियों की घोषणा !  |  हाथरस पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे राहुल गांधी के काफिले को रोक पुलिस ने की लाठीचार्ज !  |  Unlock 5 Guideline: गृह मंत्रालय ने जारी करी अनलॉक 5 कि गाइडलाइन, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद !  |  हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद परिजनों में आक्रोश, जीभ काटने आंख फोड़ने जैसी कोई बात नहीं - आईजी   |  संगठन द्वारा सौंपी गई नई जिम्मेदारियों का मैं सच्ची निष्ठा से निर्वाहन करूंगा - तरुण चुग !  |  भाजपा के नवनियुक्त केंद्रीय पदाधिकारियों की घोषणा, यह रही सूची !  |  SSC ने घोषित की CHSL, CGL, JE, स्टेनो समेत सभी लंबित परीक्षाओं तारीख, 1 अक्टूबर से 31 अगस्त 2021 तक होंगे एग्जाम !  |  
संपादक
By   V.K Sharma 04/08/2020 :12:29
हिमालय से भी विराट व्यक्तित्व है इन्द्रेश कुमार
 


राष्ट्रवाद को समर्पित ,देश की एकता, अखंडता, संप्रभुता के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने लिए लिए विराट व्यक्त्वि है आदरणीय इन्द्रेश कुमार

आज  भी  एक व्यक्तित्व ऐसा है जो सम्पूर्ण भारत राष्ट्रवाद की अलख जलाने में व्यस्त है , अपना तन मन सब भारत माता को समर्पित करके अखण्ड भारत संकल्पना को मूर्तरूप  देने की जिद में निरन्तर  कार्य करना ही पूजा ओर उदेश्य मान कर चलना ही उनका लक्ष्य है, ऐसा ही व्यक्तित्व है आदरणीय इन्द्रेश कुमार जी का, जिनके पिता उस जमाने में जनसंघ से विधायक थे और परिवार हरियाणा के कैथल शहर के सबसे धनाढ्य परिवारों में एक. उसी परिवार से 10 साल की छोटी उम्र का एक बच्चा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा में जाना शुरू करता है, संघ शाखा में जाने के साथ-साथ पढाई में भी अव्वल ये बालक इंजिनीयरिंग करने गया तो वहां भी अपनी योग्यता के झंडे गाड़ दिए और जब वहां से निकला तो मैकेनिकल इंजिनियरिंग में अपने बैच का गोल्ड मेडलिस्ट था. 

डिग्री मिलने के बाद अब मैकेनिकल इंजिनियरिंग के टॉपर इन्द्रेश जी के सामने दो रास्ते थे, परिवार का जमा-जमाया व्यवसाय संभाले या फिर कहीं अच्छी सी नौकरी करे और उसके बाद गृहस्थी बसाये पर उसने ये रास्ता नहीं चुना. उसने खुद को देश और धर्म की सेवा में झोंक दिया और 1970 में संघ के प्रचारक बन गये. पिता ने खुशी में पूरे मोहल्ले में भोज किया कि उनके बेटे ने खुद के लिये जीने की बजाये देश के लिये जीने की राह चुनी है. 

इंद्रेश जी प्रचारक बने तो संघ ने दिल्ली में काम करने का दायित्व सौंपा तो 1970 से 1983 तक अलग-अलग दायित्वों में दिल्ली में काम करते रहे. अपने इन दायित्वों का निर्वहन करते हुए उन्हें आपातकाल के दंश से लेकर, सिख विरोधी अभियान तक के विकट परिस्थितियों का सामना करना पड़ा पर उन्होंने इन प्रतिकूल परिस्थितियों में भी हिन्दू समाज का कुशल मार्गदर्शन किया, इसी दौरान दिल्ली में माँ झंडेवाली मंदिर की जमीन को भी असामाजिक तत्वों के कब्जे से मुक्त कराया. असाधारण योग्यता को देखते हुए संघ ने इन्हें बिलकुल प्रतिकूल जगह भेजने का निर्णय लिया और उन्हें संघ कार्य को विस्तार देने के लिये कश्मीर और हिमाचल प्रदेश भेज दिया. नब्बे के शुरूआती दशक में जब पूरा कश्मीर हिन्दू विरोधी और राष्ट्र विरोधी आग में जल रहा था तब ये शख्स वहां के संतप्त हिन्दू समाज के बीच अविचलित हुए बिना काम कर रहा था. कश्मीर की एक इंच भूमि भी ऐसी नहीं है जो इस शख्स की हिन्दू समाज के लिये की गई मेहनत का इंकार कर सके. जिस समय देश के नेता और अधिकारी कश्मीर के हिन्दुओं को उनके हाल पर छोड़कर किसी चमत्कार की प्रतीक्षा कर रहे थे उस समय ये वहां के गाँव-गाँव में बिना किसी सुरक्षा के घूम रहे थे. कई बार आतंकियों ने अपहरण और हत्या की कोशिश की, धमकियाँ भेजी पर ये डिगे नहीं. 17 साल वहां काम करने के बाद संघ ने इनको अखिल भारतीय अधिकारी का दायित्व सौंपा, फिर तो इनके चमत्कारिक व्यक्तित्व के कई और आयाम देश के सामने आने लगे. 

आपको अगर सिर्फ सदस्य के नाते कुछ संगठनों से जुड़ने को कहा जाये तो आप कितने संगठन से जुड़ सकेंगे, दो, चार, दस, बीस यही न ? पर आदरणीय इन्द्रेश कुमार जी ने चालीस से अधिक संगठनों की स्थापना की. समाज, राष्ट्र और हिन्दू से जुड़ा कोई भी विषय ऐसा नहीं है जिसके लिये इस आदमी ने काम न किया हो. आप पर्यटन की बात करेंगें तो इन्होंनें पवित्र सिन्धु नदी से जुड़ी "सिन्धु दर्शन यात्रा" शुरू की फिर पूर्वोत्तर के ओर पहुंचे और तवांग यात्रा का आयोजन किया. आज भी हर वर्ष ये दोनों यात्रायें होतीं हैं. ये देश के पहले इंसान है जिन्होनें धार्मिक यात्रा के साथ-साथ देश-प्रेम यात्रा का आयोजन शुरू किया. अपने एक संगठन "फिन्स" (फोरम फॉर इंटीग्रेटेड नेशनल सिक्यूरिटी) के बैनर तले "सरहद को प्रणाम" नाम से एक यात्रा शुरू करवाई जिसमें लाखों युवक और युवतियों ने देश के सीमावर्ती क्षेत्रों की यात्रा की और सरहद तक पहुँचे. हर वर्ष दिसंबर के अंतिम सप्ताह में अंडमान में भी ऐसी ही यात्रा का आयोजन होता है जहाँ लोग सेलुलर जेल जाकर अपने महान बलिदानियों को नमन करतें हैं. सीमा की सुरक्षा केवल सरकार की नहीं बल्कि समाज की भी जिम्मेदारी है इसलिये इस शख्स ने "सीमा जागरण मंच" नाम से एक संगठन बनाया है जो भारत के सीमवर्ती इलाकों भी सजग और मुस्तैद है. देश की आंतरिक सुरक्षा पर कोई आंच न आये और सुरक्षा एजेंसियों के साथ-साथ समाज भी सजग रहे  इसके लिये फिर "फैन्स" (फोरम फॉर अवेयरनेस ऑन नेशनल सिक्यूरिटी) नाम से एक संगठन बनाया जिसके कार्यक्रमों में सरकार के बड़े-बड़े मंत्री और रक्षा विशेषज्ञ आते रहतें हैं. 

जो सैनिक देश के लिये अपना सबकुछ न्योछावर कर देता है, सेवानिवृति के बाद भी वो बेहतर जीवन जिये और समाज के लिये प्रेरक बन कर काम करे इसलिए इन्होंने "पूर्व सैनिक परिषद्" नाम से एक संगठन बनाया. पूंछ में जब जेहादी आँख दिखाते हुए हिन्दुओं से कह रहे थे कि निजामे-मुस्तफा में तेरा कोई स्थान नहीं तब इन्होनें वहां "बूढ़ा अमरनाथ" यात्रा की शुरुआत की और जिहादियों के मंसूबे को कुचल दिया, फिर इसके बाद हिमाचल प्रदेश में भी "बाबा बालकनाथ दियोट सिद्ध हिमालयी एकता" नाम से ऐसी ही एक यात्रा प्रारंभ करवाई. तिब्बत चीन के आधिपत्य से मुक्त हो इसके लिये भी उनका प्रयास चला और ५ मई १९९९ को उन्होंने "भारत तिब्बत सहयोग मंच" नाम से एक संगठन बनाया. कैलाश मानसरोवर चीन के कब्जे से मुक्त हो इसके लिये १९९६ में लेह में "सिन्धु उत्सव" की शुरुआत की जिसके उदघाटन कार्यक्रम में आडवानी जी जैसे बड़े दिग्गज भी थे. हिमालय प्रदूषण मुक्त और सुरक्षित हो इसके लिये "हिमालय परिवार" नाम से एक संगठन बनाया. ये संगठन वृक्षारोपण और पर्यावरण संरक्षण के कामों में बड़ा सक्रिय है. माँ गंगा फिर से कल-कल करती हुई बहे इसके लिये भी उन्होंने काम किया, आज गंगा-सफाई अभियान से जुड़े किसी व्यक्ति से इनका नाम पूछिए देखिये वो कितने गर्व से इनका नाम लेता है. पूर्वोत्तर में पर्यटन का विस्तार हो और चीन की गिद्ध दृष्टि से देश अवगत हो इसके लिये पूर्वोत्तर में तवांग यात्रा के साथ-साथ परशुराम कुंड यात्रा की भी शुरुआत की. देश का मुस्लिम समाज भी राष्ट्र की मुख्यधारा में आये और विवादित मसलों पर उनके साथ संवाद हो इसके लिये 2002 में "मुस्लिम राष्ट्रीय मंच" की स्थापना की, इसी तरह ईसाई समाज से भी संवाद हो सके इसके लिये "राष्ट्रीय ईसाई मंच" बनाया. गऊ रक्षा का विषय इनके दिल के सबसे करीब है, इनकी कोशिशों से लाखों-लाख मुसलमानों ने गो-हत्या रोकने के लिये हस्ताक्षर अभियान चलाया और मुस्लिम समाज से करीब १० लाख हस्ताक्षर करवाकर राष्ट्रपति को सौंपा. 

नेपाल चीन के आगोश में न चला जाये इसके लिये २००६ में "नेपाली संस्कृति परिषद्" नाम से एक संगठन बनाया, फिर बांग्लादेश में हो रहे हिन्दू दमन के खिलाफ वहां के बुद्धिजीवी आगे आयें इसके लिये उन्होंने "भारत बांग्लादेश मैत्री परिषद् नाम से एक संगठन बनाया. फिर 2006 में बौद्ध और अनुसूचित नवबौद्ध समाज से संवाद के लिये "धर्म-संस्कृति संगम" नाम से एक संगठन बनाया जिसके कार्यक्रमों के बारे में मैंने कई बार लिखा है. 

ये तो मैंने बस कुछ संगठनों के नाम लिखे हैं, विस्तार भय से इनके द्वारा स्थापित सारे संगठनों की चर्चा नहीं कर पाया और ऐसा भी नहीं है कि इनके इतने सारे संगठन सिर्फ नाम के हैं, इनमें से हरेक संगठन जीवंत हैं, इन संगठनों के जनक और मार्गदर्शक किसी महामानव की तरह इन सारे संगठनों के कार्यक्रमों में लगभग रोज ही आपको दिखेंगे. जो उनको करीब से जानतें हैं उनके लिये इनकी दिनचर्या किसी चमत्कार से कम नहीं है. सुबह गुवाहाटी से कार्यक्रम निपटा कर दिल्ली, फिर दिल्ली में कार्यक्रम संपन्न कर हैदराबाद और फिर ऐसा ही क्रम रोज का होता है. इन्होनें पूरे भारत के न जाने कितने चक्कर लगा लिये होंगें. रोज़ हजारों लोग मिलतें हैं पर जिससे एक बार मिल लिया उसका नाम उन्हें याद रह जाता है और उनके जानने वाले उनके नाम के आगे स्वतः आदरणीय या माननीय शब्द जोड़ लेतें हैं.



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
ok
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv