Breaking News
दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2019 : अध्यक्ष समेत तीन सीटों पर ABVP की जबरदस्त जीत, NSUI को मिला सचिव पद !  |  रांची पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, झारखंड को दी 7 नई सौगातें !   |  देहदान अंगदान समाज की एक बड़ी जरूरत - हर्ष मल्होत्रा  |  वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जताया शोक, सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा- `अलविदा दोस्त`   |  LIVE : आज रात चूमेगा चांद की जमीन को चंद्रयान -2 देखे लाइव लैंडिंग  |  Assam NRC : गृह मंत्रालय ने अंतिम सूची की जारी, 19 लाख लोग साबित नहीं कर सके नागरिकता, अब सामने है ये विकल्प !   |  दिलशाद गार्डन जी टी बी एनक्लेव के अल्ट्रासाउंड सेंटर पर छापा मारकर भ्रूण लिंग जांच पकड़ी  |  पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से थे बीमार,एम्स में ली आखिरी सांस !  |  पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से 67 वर्ष की उम्र में निधन, दिल्ली के एम्स अस्पताल में ली अंतिम सांस !   |  जम्मू कश्मीर से हटा अनुच्छेद 370 ,लद्दाख होगा केंद्र शासित प्रदेश, जानें क्या है अनुच्छेद 35A तथा अनुच्छेद 370 !  |  
राष्ट्रीय
By   V.K Sharma 15/03/2019 :11:07
अयोध्या विवाद मध्यस्थता की नहीं होगी रिपोर्टिंग, टीम ने लगाया प्रतिबंध
Total views  421
नई दिल्ली उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम मंदिर निर्माण मुद्दे को आपसी सहमति से सुलझाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मध्यस्थ टीम ने अपना कार्य शुरू कर दिया है। पर इस मामले की मध्यस्थता की रिपोर्टिंग नहीं की जाएगी ।

मध्यस्थों ने प्रिंट और और मीडिया की रिपोर्टिंग को प्रतिबंधित कर दिया है। दरअसल, यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस कलीफुल्ला की अध्यक्षता वाली मध्यस्थ पैनल ने लिया है। मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले को मध्यस्थता के लिए भेज दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पैनल मध्यस्थता के माध्यम से विवाद निपटाने के प्रयास शुरू करे और 4 सप्ताह में पक्षकारों के बीच मध्यस्थता की स्तिथि को लेकर प्रगति रिपोर्ट दायर करे। क्योंकि 8 हफ्ते बाद सुप्रीम कोर्ट मुख्य मामले की सुनवाई करने वाला है। मध्यस्थता
पैनल में जस्टिस कलीफुल्ला, राम पंचू, और श्री श्री रवि शंकर को शामिल किया गया है। कोर्ट ने कहा था कि विवाद निपटारे के दौरान मध्यस्थता प्रयासों पर मीडिया रिपोर्टिंग होगी या नहीं इस पर मध्यस्थ पैनल आखिरी निर्णय लेंगे।

वहीं एक और हिंदू पक्षकार निर्मोही अखाड़े ने कहा था कि वह मध्यस्थता के लिए तैयार है। मुस्लिम पक्ष ने भी मध्यस्थता पर सहमति जताई। सुनवाई के दौरान सबसे पहले एक हिन्दू पक्ष के वकील ने कहा था कि अयोध्या केस को मध्यस्थता के लिए भेजने से पहले पब्लिक नोटिस जारी किया जाना चाहिए। हिंदू पक्षकार की दलील थी अयोध्या मामला धार्मिक और आस्था से जुड़ा मामला है, यह केवल सम्पत्ति विवाद नहीं है। इसलिए मध्यस्थता का सवाल ही नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम हैरान हैं कि विकल्प आजमाएं बिना मध्यस्थता को खारिज क्यों किया जा रहा है। कोर्ट ने कहा कि अतीत पर हमारा नियंत्रण नहीं है लेकिन हम बेहतर भविष्य की कोशिश जरूर कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि जब वैवाहिक विवाद में कोर्ट मध्यस्थता के लिए कहता है तो किसी नतीजे की नहीं सोचता। बस विकल्प आजमाना चाहता है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम ये नहीं सोच रहे कि किसी पक्ष को किसी चीज का त्याग करना पड़ेगा। हम जानते हैं कि ये आस्था का मसला है। हम इसके असर के बारे में जानते हैं।



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv