Breaking News
इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स द्वारा आयोजित दो दिन की राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस  |  गोरखपुर: गुरुनानक के जयघोष से गुंजायमान रहा वातावरण,हर्षोल्लास से मना 550वां प्रकाश पर्व..  |  Ayodhya Case Verdict 2019: सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले से श्री राम का वनवास खत्म, मंदिर निर्माण का रास्ता साफ, कोर्ट में महत्वपूर्ण साबित हुईं ये दलीलें,पढ़िए पूर्ण विश्लेषण !  |  अयोध्या फैसले को लेकर भटहट क्षेत्र में लिया गया सुरक्षा का जायजा और लोगों से शांति बनाए रखने की गई अपील  |  श्री साधुमार्गी जैन श्रावक संघ द्वारा विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन A.I.I.M.S के तत्वाधान में किया गया।  |  गोरखपुर:चैनल में करंट उतर से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत  |  चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव की तारीखों का किया ऐलान, ये 4 मुद्दे हो सकते हैं भाजपा के लिए गेमचेंजर !   |  दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2019 : अध्यक्ष समेत तीन सीटों पर ABVP की जबरदस्त जीत, NSUI को मिला सचिव पद !  |  रांची पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, झारखंड को दी 7 नई सौगातें !   |  देहदान अंगदान समाज की एक बड़ी जरूरत - हर्ष मल्होत्रा  |  
राष्ट्रीय
By   V.K Sharma 15/03/2019 :10:22
आश्रमों और योगियों की आध्यात्मिक क्षमता हो सकती है महत्वपूर्ण: रवि डबराल
Total views  696
नई दिल्ली आज के तनाव भरे व्यक्तिगत जीवन तथा कॉर्पोरेट दौर को देखते हुए भारत को हिमालय स्थित आश्रमों में छात्रों के लिए एमबीए एवं डिग्री कोर्सेज में कुछ हफ्तों का कोर्स लागू करना चाहिए। छात्रों को इन पवित्र स्थानों पर एकांत में पढऩे और आध्यात्मिक ज्ञान पाने का अवसर प्रदान किए जाने चाहिए।

पुस्तक के लेखक रवि डबराल ने बताया। जिन्होंने हाल ही में अपनी स्थानीय भाषा अंग्रेजी में नई पुस्तक ‘ग्रीड लस्ट एडिक्शन’और हिंदी में ‘लालच वासना लत’ का लान्च सिंगापुर में किया था। एह्रश्वपल के स्टीव जाब्स और फेसबुक के मार्क जुक़ेरबर्ग ने हिमालय में स्थित आश्रमों और योगियों के संरक्षण में आध्यात्मिकता का पाठ पढ़ा है। ‘इन उदाहरणों के मद्देनजऱ आध्यात्मिक पाठ्यक्रमों को उच्च शिक्षा, डिग्री कोर्सेज और एमबीए में शामिल किया जाना चाहिए।’ उन्हें हिमालय में स्थित आश्रमों और योगियों का महत्व देर से समझ में आया। ‘मुझे यह जानकर शर्मिंदगी का एहसास हुआ कि विदेशी लोगों ने हिमालय की गुरूओं और योगियों की ताकत को पहले पहचाना, जबकि उत्तराखण्ड का निवासी होने के बावजूद मैं इसके महत्व को नहीं समझ पाया।’ डबराल ने कहा। उनका जन्म उत्तराखंड में हुआ था, जो अपने आध्यात्मिक आश्रमों के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। इस भूमि में अपने प्रारंभिक वर्षों का प्रभाव उनके अधिकांश कार्यों में देखा जा सकता है। 46 वर्षीय डबराल सिंगापुर में कमोडिटी ट्रेडर हैं। उन्हें नवम्बर 2016 में बैंकाक में द इण्डियन अचीवर्स फोरम की 10वीं इंटरनेशनल सेमिनार के दौरान ‘इंटरनेशनल मैन आफ एक्सीलेंस अवार्ड फार एजुकेशन, कोरपोरेट एण्ड सोशल सर्विसेज़’ के अंतर्राष्ट्रीय विजेता के रूप में भी सम्मानित किया गया।



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv