Breaking News
पन्ना जिले में मिला चौथा कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली से लौटा प्रवासी श्रमिक जाँच में निकला संक्रमित !  |  मुस्लिम समाज के लोगों ने घरो में ही रहकर अदा की ईद की नमाज , प्रशासन द्वारा ड्रोन कैमरे से की गई निगरानी !   |  अब किसी भी क्रय केंद्र पर गेहूं बेच सकते हैं किसान  |  भटहट के दलाल चौराहे पर ट्रांसफार्मर जलने से मची भगदड़ !  |  थैलासीमिक बच्चों के लिए ब्लड डोनेशन कैंप में स्वयंसेवकों ने किया रक्तदान.  |  गोरखपुर के एक स्कूल की शिक्षिका ने पढ़ाया पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है,शिक्षिका को किया गया निलंबित !  |  अनूप दुबे बन सकते हैं यूपीसीए के मीडिया सलाहकार  |  कराची एयरपोर्ट के पास पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की फ्लाइट क्रैश, 107 लोग थे सवार  |  CM योगी ने अपने ही मंदिर की दुकानों पर चलवाया बुलडोजर !  |  योगी आदित्यनाथ को खास समुदाय की जान का बताया दुश्मन, दी बम से उड़ाने की धमकी, FIR दर्ज !  |  
अपराध
By   V.K Sharma 26/11/2018 :14:40
रायबरेली जेल में कैदियों की पूरी रंगबाजी, हथियारों के साथ कैदियों की दारु पार्टी, जेल से फोन करके मांगी जा रही है रिश्वत , पुलिस प्रशासन की लापरवाही पर उठे सवाल !
Total views  1136




रायबरेली, उत्तर प्रदेश (न्यूज़ ग्राउंड) आकाश मिश्रा :  उत्तर प्रदेश की रायबरेली जिला जेल में कैदियों द्वारा कथित रूप से शराब मंगवाने, जेलर को रिश्वत देने की बात कहने और किसी को धमकी देने का वीडियो वायरल होने के बाद वरिष्ठ कारागार अधीक्षक समेत छह अधिकारियों को सोमवार को निलम्बित करने के साथ-साथ उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गयी. गृह विभाग के सूत्रों ने बताया कि रायबरेली जिला जेल के अंदर कैदियों द्वारा किसी को फोन करके शराब मंगवाने, किसी को धमकी देने और जेलर को रिश्वत देने की बात करने का वीडियो वायरल जिसमे कैदी दारु पार्टी करते नज़र आ रहे है और सिगरेट के धुएं को उड़ाते हुए रंगबाजी करे रहे और और बाहर फ़ोन करके पैसो की मांग कर रहे है और जेल में बैठे बैठे अपना ग्रौंप चला रहे हुई ये मामले सामने आते ही जिला कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ल, कारापाल गोविन्द राम वर्मा, उप कारापाल रामचन्द्र तिवारी, मुख्य जेल वार्डन लालता प्रसाद उपाध्याय, जेल वार्डन गंगाराम और शिवमंगल सिंह को निलम्बित करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गयी है. वहीं जेल में अपराधियों के शराब पार्टी किए जाने का वीडियो वायरल होने के बाद रविवार देर शाम डीएम संजय कुमार खत्री और एसपी सुजाता सिंह ने जेल में छापा मारा. अचानक छापेमारी से जेल अफसरों में हड़कंप मच गया था. तलाशी के दौरान चार मोबाइल फोन सेट और एक सिमकार्ड बरामद किये जाने का मामला भी उसी मुकदमे में शामिल कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि शासन के निर्देश पर कल रविवार को जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा एक बार फिर जेल में तलाशी लिये जाने पर सिगरेट, लाइटर, माचिस, मिठाइयां तथा मेवे आदि खाद्य पदार्थ बरामद हुए थे.  बता दें कि वायरल वीडियो रायबरेली जिला जेल के बैरक नंबर 10 का बताया जा रहा है. जो 21 नवंबर से पहले का बताया जा रहा है. इसमें बंद अपराधी जेल में शराब पीते हुए सिगरेट का धुआं उड़ाते है और रंगबाजी दिखाते हुए बहार लोगो को धमकाते है और पैसे की मांग करे है ये अपराधी सरकारी मशीनरी को आइना दिखा रहे हैं. यही नहीं इस वीडियो में जेल में बंद अपराधी फोन पर अपने साथी को 10 हजार रुपये में से 5 हजार रुपये एक जेल के अधिकारी को देने की बात कह रहे हैं. बताया जा रहा है कि प्रशासन ने गुपचुप तरीके से इन बंदियों का तीन दिन पहले ही गैर जिलों की जेलों में तबादला कर दिया. इस मामले में जेल अधीक्षक प्रमोद शुक्ला ने बताया कि वीडियो वायरल में पांच अपराधी दिख रहे हैं. इसमें से चार अपराधियों के खिलाफ सदर कोतवाली में एफआईआर दर्ज है. जेल में चखना और शराब पार्टी का वीडियो वायरल होने की जानकारी पर बंदी निखिल सोनकर को सुल्तानपुर, अजीत को बाराबंकी, दलसिंगार सिंह को फतेहपुर और अंशू का प्रतापगढ़ जिला कारागार स्थानांतरण कर दिया गया है. साथ ही प्रकरण की पहले ही एफआईआर सदर कोतवाली में लिखाई जा चुकी है. कुछ लोगों ने जेल का माहौल खराब करने के लिए वीडियो बनवाया है. जांच कराई जा रही है. मीडिया से बातचीत में डीआईजी जेल उमेश श्रीवास्तव ने कहा कि रायबरेली जेल में शराब पार्टी का वीडियो वायरल होने के मामले में जेल अधीक्षक, जेलर समेत छह कर्मियों पर कार्रवाई कर दी गई है। जेल प्रशासन की चूक से यह सब हुआ है। ऐसा जेल में नहीं होना चाहिए था।  उन्होंने कहा कि इस प्रकरण में जो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा। इसी बीच देर शाम को डीआईजी ने लखनऊ पहुंचकर एडीजी जेल को अपनी रिपोर्ट सौंपी दी, जिसे शासन को भेजा जाएगा।  डीआईजी जेल से सवाल किया गया कि जेल के अंदर शराब समेत अन्य सामग्री पहुंच गई। कैंटीन प्रभारी के माध्यम से ही बंदियों को सामग्री उपलब्ध कराई जाती है। इसके बावजूद कैंटीन प्रभारी पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई। इस पर डीआईजी ने कहा कि जांच चल रही है। जांच में कैंटीन प्रभारी दोषी मिले तो उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। डीआईजी से सवाल किया गया कि बैरक में जमीन खोदकर मोबाइल छिपा दिए गए। फावड़ा और नुकीले औजार कैसे जेल के अंदर पहुंचे। इस पर डीआईजी ने कहा कि इसकी भी जांच कराई जा रही है कि फावड़ा और नुकीले औजार जेल के अंदर से कैसे पहुंचे और इसके लिए कौन जिम्मेदार था। डीआईजी से सवाल किया गया कि जो वीडियो वायरल हुआ है, उसमें बैरक में बंद पांच अपराधियों को दिखाया गया है। इसके बाद भी चार अपराधियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। एक अपराधी पर रिपोर्ट क्यों नहीं दर्ज कराई गई। इस पर डीआईजी ने कहा कि जांच अभी चल रही है। जो भी मामले में दोषी होगा, उस पर कार्रवाई होगी।

रायबरेली जेल में कैदियों की पूरी रंगबाजी, हथियारों के साथ कैदियों की दारु पार्टी, जेल से फोन करके मांगी जा रही है रिश्वत , पुलिस प्रशासन की लापरवाही पर उठे सवाल !





V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv