Breaking News
राम के लिए रो पड़े गोरखपुर के सांसद रवि किशन  |  Live : अयोध्या से राम मंदिर भूमिपूजन का सीधा प्रसारण !  |  हिमालय से भी विराट व्यक्तित्व है इन्द्रेश कुमार  |  दिल्ली दंगो का मास्टरमाइंड ताहिर हुसैन का कबूलनामा - मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, जांच में कई चौंकाने वाले खुलासे !  |  वामपंथ वहीं है, जहां दूसरे विचारों के लिए जगह नहीं है-भूपेंद्र यादव  |  जल बोर्ड की पाइप लाइन से रिसाव के कारण घरों में घुसा पानी, जेई ने किया क्षेत्र का दौरा  |  फ्रांस से भारत के लिए 5 राफेल विमान रवाना, 29 जुलाई तक अंबाला एयरबेस पहुंचेंगे !  |  प्रशासनिक सेवाओं का सितारा अभिषेक सिंह अब बॉलीवुड में चमकने को तैयार  |  दिल्ली के दयालपुर में 14 साल की बच्ची का यौन शोषण !  |  लद्दाख से राजनाथ सिंह का चीन को सख्त संदेश- दुनिया की कोई ताकत नहीं छीन सकती एक भी इंच जमीन !  |  
स्वास्थ्य
By   V.K Sharma 19/10/2018 :15:59
इभास द्वारा मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता अभियान का आयोजन संम्पन्न !
 

 

नई दिल्ली (न्यूज़ ग्राउंड) आकाश मिश्रा : मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता अभियान 2018 का आयोजन त्रिवेणी कला संगम, कनॉट प्लेस नई दिल्ली मानव व्यवहार एवं समबन्ध विज्ञान संस्थान, दिलशाद गार्डन दिल्ली के द्वारा किया गया कार्यक्रम में  मुख्य अतिथि हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा जी थे। डॉ निमेष जी देसाई निदेशक ईभास थे कार्यक्रम का उद्घाटन 10 अक्टूबर 2018 को स्वास्थ्य मंत्री श्री सतेंद्र जैन ने दिल्ली सचिवालय मै किया था। कार्यक्रम का समापन समारोह म काफी लोग मौजूद थे। विजय भान , महासचिव ईभास एम्पलॉइज यूनियन ने मानसिक तनाव को कम करने के बारे मै संगीत थेरेपी के योगदान के बारे मै जानकारी दी मीडिया के योगदान को स्वास्थ्य जागरूकता के साथ जोड़ने की मुहिम का हिस्सा बनने पर धन्यवाद दिया। हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा ने मानसिक स्वास्थ्य के प्रति अपनी कविताओं के माध्यम से लोगों का मनोरंजन किया। मंच संचालन डॉ मृदुला टंडन के द्वारा किया गया । डॉ निमेष जी देसाई ने मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता अभियान के बारे मैं विस्तार से जानकारी दी उन्होंने बताया कि मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति नि: शुल्क विधिक सहायता के अधिकारी हैं। कहा कि मानसिक स्वास्थ्य हम सबसे संबंधित है, किसी को भी मानसिक स्वास्थ्य की समस्या हो सकती है। मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्तियों को उनके अधिकार दिलाने के लिए किसी भी प्रकार निशुल्क सहायता प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि मानसिक चिकित्सालय में स्वस्थ होने के बाद यदि मुक्त होने में कोई तकनीकी या कानूनी परेशानी है, उसका समाधान भी राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा निशुल्क किया जाएगा। डॉ निमेष देसाई ने मानसिक रूप से अस्वस्थ के बारे बताया के ऐसे व्यक्ति, जिनको नींद कम आती है या अधिक सोते हैं। घबराहट और बैचेनी रहती है, मन में हीन भावना कमजोरी एकाग्रता की कमी, अत्यधिक थकान की शिकायत होती है तो वे मानसिक अस्वस्थ कहे जाते हैं।



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv