Breaking News
दलितों पर राजनीति करती आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की सरकार - आदेश गुप्ता  |  भाजपा दिल्ली प्रदेश के नवनियुक्त पदाधिकारियों की घोषणा !  |  हाथरस पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे राहुल गांधी के काफिले को रोक पुलिस ने की लाठीचार्ज !  |  Unlock 5 Guideline: गृह मंत्रालय ने जारी करी अनलॉक 5 कि गाइडलाइन, जानें क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद !  |  हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद परिजनों में आक्रोश, जीभ काटने आंख फोड़ने जैसी कोई बात नहीं - आईजी   |  संगठन द्वारा सौंपी गई नई जिम्मेदारियों का मैं सच्ची निष्ठा से निर्वाहन करूंगा - तरुण चुग !  |  भाजपा के नवनियुक्त केंद्रीय पदाधिकारियों की घोषणा, यह रही सूची !  |  SSC ने घोषित की CHSL, CGL, JE, स्टेनो समेत सभी लंबित परीक्षाओं तारीख, 1 अक्टूबर से 31 अगस्त 2021 तक होंगे एग्जाम !  |  राफेल उड़ाने वाली पहली महिला पायलट होंगी वाराणसी की शिवांगी सिंह !   |  रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का निधन 11 सिंतबर को हुए थे कोरोना पॉजिटिव !  |  
कारोबार
By   V.K Sharma 29/07/2018 :19:11
कैश ऑन डिलीवरी करना आपके लिए पड़ सकता है भारी
 
एक आरटीआई के जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक ने जबाब दिया है कि फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों को अपने ग्राहकों द्वारा नगद पैसे का संग्रह अनुमती नहीं है, हालांकि यह अभी तक स्पष्ट रूप से अवैध नहीं है।

नई दिल्ली (न्यूज़ ग्राउंड)कैश-ऑन-डिलीवरी, भारत में व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला एक भुगतान विकल्प है हमारे देश मे अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट समेत लगभग हर अग्रणी ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा  अपने ग्राहकों को प्रदान की गई एक सुविधा माना जाता है, यह संभवतः अवैध है।  एक आरटीआई के जवाब में भारतीय रिजर्व बैंक ने जबाब दिया है कि फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों को अपने ग्राहकों द्वारा नगद पैसे का संग्रह अनुमती नहीं है, हालांकि यह अभी तक स्पष्ट रूप से अवैध नहीं है। एक अखबार की रिपोर्ट के अनुसार  भारत के धर्मेंद्र कुमार द्वारा दर्ज आरटीआई  के अनुसार पूछे गए प्रश्न को एफडीआई वॉच ने आरबीआई से यह पुष्टि करने के लिए कहा कि क्या ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस जैसे ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस जैसे कैश-ऑन-डिलीवरी (सीओडी) भुगतान विकल्प और फ्लिपकार्ट जैसे ई-कॉमर्स व्यापारियों को पैसे का वितरण करना है। अमेज़ॅन भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 की धारा 8 का अनुपालन करता है या नहीं। बैंक ने पूछताछ के जवाब में कहा कि "अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट जैसे एग्रीगेटर्स / भुगतान मध्यस्थों को पीएसएस (भुगतान और निपटान प्रणाली) अधिनियम, 2007 की धारा 8 के तहत अधिकृत नहीं है।" ध्यान दें कि भारत में ई-कॉमर्स  कंपनिया अपने लेनदेन  सीओडी भुगतान मोड के माध्यम से करती है और यदि  भारतीय रिज़र्व बैंक स्पष्ट रूप से  इस मॉडल को अवैध मानता है तो इस निर्णय से भारत मे  30 अरब से अधिक मूल्य वाले  ई-कॉमर्स सेक्टर को प्रभावित जाएगा।भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम 2007 अगस्त 2008 में लागू हुआ था, जो हमारे देश में सभी भुगतान प्रणाली को नियंत्रित और पर्यवेक्षण करता है।अधिनियम ऑनलाइन और इलेक्ट्रॉनिक भुगतान के बारे में बात करता है पर कैश ऑन डिलीवरी भुगतान का कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं देता है जो इस भुगतान कानूनी  वैधता पर एक प्रश्न उठाता है। हालांकि, कुछ कानूनी विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कैश ऑन डिलीवरी भुगतान प्रणाली में कुछ भी अवैध नहीं है।"पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम एक्ट, 2007 को ई-कॉमर्स ऑपरेटरों द्वारा कैश ऑन डिलीवरी लेनदेन पर लागू होना चाहिए, कानूनी विशेषज्ञ के अनुसार । "यह (सीओडी) ई-कॉमर्स ऑपरेटरों और व्यापारियों के बीच एक संविदात्मक व्यवस्था के माध्यम से किया जा सकता है। इन्हें भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007, नियमों और विनियमों द्वारा नियंत्रित किया जाएगा। "कुछ कानूनी विशेषज्ञ हैं जो मानते हैं कि भुगतान मोड पीएसएस अधिनियम का उल्लंघन है। असल में, आरबीआई ने इस मुद्दे पर कोई स्पष्टता नहीं दी है। इस अधिनियम में कैश ऑन डिलीवरी का कोई स्पष्ट उल्लेख नहीं है जो इस बात पर भ्रम पैदा करता है कि भुगतान मोड कानूनी या अवैध है या नहीं। भारत में कई ऑनलाइन शॉपर्स हैं जो फ्लिपकार्ट या अमेज़ॅन से खरीदी गई खरीद के लिए पूरी तरह से कैश ऑन डिलीवरी पर निर्भर हैं



V.K Sharma
Editor in Chief
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
ok
विशेष
»»


Copyright @ News Ground Tv