newsgroundtv.com | Hindi News: Latest News in Hindi, Breaking News, Hindi News Paper
Breaking News
गोरखपुर: गुरुनानक के जयघोष से गुंजायमान रहा वातावरण,हर्षोल्लास से मना 550वां प्रकाश पर्व..  |  Ayodhya Case Verdict 2019: सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले से श्री राम का वनवास खत्म, मंदिर निर्माण का रास्ता साफ, कोर्ट में महत्वपूर्ण साबित हुईं ये दलीलें,पढ़िए पूर्ण विश्लेषण !  |  अयोध्या फैसले को लेकर भटहट क्षेत्र में लिया गया सुरक्षा का जायजा और लोगों से शांति बनाए रखने की गई अपील  |  श्री साधुमार्गी जैन श्रावक संघ द्वारा विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन A.I.I.M.S के तत्वाधान में किया गया।  |  गोरखपुर:चैनल में करंट उतर से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत  |  चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव की तारीखों का किया ऐलान, ये 4 मुद्दे हो सकते हैं भाजपा के लिए गेमचेंजर !   |  दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव 2019 : अध्यक्ष समेत तीन सीटों पर ABVP की जबरदस्त जीत, NSUI को मिला सचिव पद !  |  रांची पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, झारखंड को दी 7 नई सौगातें !   |  देहदान अंगदान समाज की एक बड़ी जरूरत - हर्ष मल्होत्रा  |  वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन, राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने जताया शोक, सुब्रमण्यम स्वामी ने लिखा- `अलविदा दोस्त`   |  
मनोरंजन
रूहानी सिस्टर्स ने एनसीआर में पंजाबी ट्रैक ‘बेदर्दां’ लॉन्च किया
नई दिल्लीत्न सूफी जुगलबंदी में समान रूप से प्रशिक्षित और पारंपरिक शैली में सूफियाना कलाम, कव्वाली, काफी और गजल पेश करने वाली प्रतिभाशाली गायिका बहनों डॉ. जागृति लूथरा प्रसन्ना और डॉ. नीता पांडेय नेगी, जिन्हें रूहानी सिस्टर्स के नाम से भी लोग जानते हैं ने अपना नवीनतम पंजाबी ट्रैक ‘बेदर्दां’ लॉन्च किया। गाने को टी-सीरीज लेबल के तहत रिलीज किया गया है। सॉन्ग लॉन्च कार्यक्रम में डॉ. नीता पांडेय नेगी ने ‘बेदर्दां’ गीत के बारे में बताया, ‘‘बेदर्दां’ को प्रसिद्ध बाबा बुल्ले शाह की कविता से लिया गया है। हमने उनकी कविता को एक गीत के रूप में ढाला है, ताकि श्रोता सरल तरीके से इससे जुड़ सकें। यह गीत ह्रश्वयार के बारे में है और बताता है कि ह्रश्वयार के रास्ते पर चलने वालों के साथ क्या होता है।’ं डॉ. जागृति लूथरा प्रसन्ना ने संगीत रचना की अपनी तकनीकों के बारे में बताया, ‘‘बेदर्दां’ गीत ह्रश्वयार और दर्द के बारे में है। जब हम ‘बेदर्दां’ की रचना कर रहे थे, अपनी जेहन में हमेशा बाबा बुल्ले शाह द्वारा कविता और गीत लेखन के विभिन्न चरणों को ध्यान में रखते थे।
Live Tv
»»
Video
»»
Top News
»»
विशेष
»»
Copyright @ News Ground Tv